लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

विचार मंच

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

गरीबी एक हिंसा है -इला भट्ट

गरीबी एक हिंसा है -इला भट्ट

नयी दिल्ली 08 जुलाई (वार्ता )  08 Jul 2017      Email  

नयी दिल्ली 08 जुलाई  प्रसिद्ध गांधीवादी समाज सेविका इला भट्ट ने कहा है कि गरीबी एक तरह की ‘हिंसा ’है जो समाज में सबकी सहमति से लगातार बरकरार है । अपनी एक पुस्तक के हिंदी अनुवाद ‘अनुबंध -सौ मील के दायरे में ’ के विमोचन के मौके पर सुश्री भट्ट ने कल यहां कहा कि गरीबी एक हिंसा है और इसमें सबका योगदान है । गरीबी ,भुखमरी , अशिक्षा ,पेयजल की कमी और बीमारी जैसी विकराल समस्याओं का हल संभव है । स्वयं सहायता समूह ‘सेवा ’ के जरिये आर्थिक स्वावलंबन का सफल माडल पेश करने वाली वयोवृद्ध समाज सेविका ने कहा कि सत्ता और संसाधनों का विक्रेन्दीकरण करके भुखमरी और हिंसा खत्म की जा सकती है । किसानों की समस्या का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि अब किसान अपनी जरूरत की चीजें उगाने की बजाय नकदी फसलों की ओर ज्यादा आकर्षित हो रहे हैं । जब तक स्थानीय स्तर पर उत्पादित चीजों का उपभाेग नहीं होगा और आवास की नीतियां दूर बैठकर बनायी जाएंगी ,रोटी ,कपडा और मकान की समस्या दूर नहीं की जा सकती । उन्होंने स्थानीय जरूरतों को पूरा करने के लिए शोध कार्य करने तथा सबके लिए उपयोगी प्रौद्योगिकी के विकास की जरूरत बतायी । वयोवृद्ध समाज सेविका ने कहा कि वह पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के ‘गरीबी हटाओ ’ के नारे से काफी प्रभावित थीं , हालांकि उसमें राजनीतिक रंग भी आ गया था लेकिन उस नारे में दम था । उन्होंने इस बात पर अफसोस जताया कि आज शिक्षित शहरी युवा पेशेवरों को गरीबी ,शोषण और अभाव जैसी सामाजिक समस्याओं की पूरी जानकारी तो है लेकिन वे इनकी जटिलताओं को समझने के लिए तैयार नहीं हैं । उन्हें इन समस्याओं का जवाब नहीं मिल रहा है । सिक्किम के पूर्व राज्यपाल वाल्मीकि प्रसाद सिंह का कहना था कि सरकार की कोई भी योजना तब तक सफल नहीं हो सकती जब तक उसमें आम जनता की भागीदारी नहीं होगी । किताब का हिंदी अनुवाद पत्रकार नीलम गुप्ता ने किया है ।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें