लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
कोरोना के 2.56 लाख से अधिक नमूनों की जांच
देश में कुल 1,268 कोरोना टेस्ट लैब
रक्षा मंत्री का लद्दाख दौरा स्थगित
पुतिन 2036 तक बने रहेंगे राष्ट्रपति
श्रमिको के अधिकार रौंदने की कोशिश अनुचित:राहुल
प्रवासी मजदूरों की मौत पर मगरमच्छ के आंसू बहा रहा है केंद्र: चिदम्बरम
जापान में कोरोना संक्रमण के 14000 से अधिक मामले
कोरोना की लड़ाई में ‘सावधानी हटी दुर्घटना घटी’ : मोदी
देश में कोरोना के 768 नये मामले, 36 की मौत
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी

स्थानीय

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

पुलिसकर्मियों के हत्यारे विकास दुबे का घर जमींदोज

पुलिसकर्मियों के हत्यारे विकास दुबे का घर जमींदोज

लखनऊ/कानपुर (डीएनएन)।   05 Jul 2020      Email  

कानपुर मुठभेड़ : चौबेपुर के थानाध्यक्ष निलंबित, कई राज्यों में छापेमारी, पुलिस की कई टीमें कर रहीं तलाश
कानपुर मुख्यालय से 45 किलोमीटर दूर बिकरू गांव में शुक्रवार को एक मुठभेड़ में पुलिस उपाधीक्षक समेत आठ पुलिसकर्मियों के मारे जाने के बाद प्रशासन ने शनिवार को कुख्यात अपराधी विकास दुबे के किलेनुमा घर को ढहा दिया। अधिकारियों ने बताया कि शनिवार को विकास दुबे के बिकरू स्थित घर को जेसीबी की मदद से गिरा दिया गया। इस दौरान वहां खड़े वाहनों को भी नष्ट कर दिया गया। इस मौके पर वहां भारी संख्या में पुलिसकर्मी मौजूद थे। दुबे के घर का भारी भरकम दरवाजा और बरामदा और चहारदीवारी को जेसीबी मशीन की मदद से एक झटके में जमींदोज कर दिया गया। पुलिस द्वारा विकास दुबे का घर गिराए जाने की बाबत सवाल पूछे जाने पर कानपुर के पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने बताया कि गांव के लोगों का कहना था कि दुबे ने दबंगई और गुंडागर्दी से लोगों की जमीन पर कब्जा किया था और लोगों से जबरन वसूली कर घर बनाया था। गांव में यह अपराध का गढ़ था, गांव वालो में उसके प्रति बहुत गुस्सा था। उन्होंने बताया कि दुबे के परिवार वालों पर गांव के नाराज लोगों ने हमला भी किया था लेकिन पुलिस की मौजूदगी के कारण कोई हादसा नहीं हुआ। पुलिस सूत्रों ने बताया कि मुठभेड़ के पहले चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी कुछ पुलिसकर्मियों के साथ दुबे के घर गए थे और राहुल तिवारी नामक व्यक्ति से उसका समझौता कराने का प्रयास कर रहे थे। राहुल वही व्यक्ति है जिसने दुबे के खिलाफ मामला दर्ज कराया था और उसी वजह से पुलिस ने दुबे के घर दबिश दी थी। सूत्रों का कहना है कि दुबे और राहुल के बीच समझौते को गए थानाध्यक्ष तिवारी के साथ दुबे ने बदतमीजी की थी और दोबारा घर न आने की धमकी भी दी थी। कहा जाता है कि दुबे ने एफआईआर लिखाने वाले राहुल को पीटा भी था। इस घटना के बाद थानाध्यक्ष तिवारी ने बिल्हौर के क्षेत्राधिकारी देवेंद्र कुमार मिश्रा को इसकी जानकारी दी, तब मिश्रा चौबेपुर, शिवराजपुर और बिठूर तीन थानों की फोर्स लेकर दुबे को गिरफ्तार करने गुरुवार देर रात उसके गांव पहुंचे। विनय तिवारी ने शनिवार को पत्रकारों से कहा कि पुलिस दुबे के घर उसे गिरफ्तार करने गई थी, ऐसा अंदेशा बिल्कुल भी नहीं था कि दूसरी तरफ से गोलियां चलने लगेंगी। अचानक चली गोलियों से पुलिस बल को भारी नुकसान उठाना पड़ा। तिवारी के टीवी चैनलों पर अपना बयान देने के कुछ समय बाद पुलिस महानिरीक्षक मोहित अग्रवाल ने उन्हें निलंबित कर दिया। पुलिस महानिरीक्षक अग्रवाल ने पत्रकारों को बताया, थानाध्यक्ष विनय तिवारी के ऊपर लग रहे आरोपों के बाद उन्हें निलंबित कर दिया गया है। उनके ऊपर लगे आरोपों की गहन जांच की जा रही है। अगर उनका या किसी भी पुलिसकर्मी का इस घटना से कोई संबंध निकला तो उसे न केवल बर्खास्त किया जाएगा बल्कि जेल भी भेजा जाएगा। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, कुछ पुलिसकर्मियों से भी पूछताछ की जा रही है ताकि यह जाना जा सके कि दुबे को उसके घर पर पुलिस की छापेमारी के बारे में पहले से खबर कैसे लगी और उसने पूरी तैयारी के साथ पुलिस दल पर हमला कर दिया। अग्रवाल ने बताया कि विकास दुबे और उसके सहयोगियों को पकड़ने के लिए पुलिस की 25 टीमें लगाई गई हैं जो प्रदेश के विभिन्न जिलों के अलावा कुछ दूसरे प्रदेशों में भी छापेमारी कर रही है। इस बीच लखनऊ में एक पुलिस अधिकारी ने इस मुठभेड़ में खुफिया विभाग की नाकामी की बात को सिरे से खारिज कर दिया। कानपुर की स्थानीय पुलिस के मुताबिक दुबे ने अपनी निजी सेना बना रखी थी और उसमें युवाओं की भर्ती करता था और उन्हें हथियार उपलब्ध कराता था। इस बीच कानपुर और कानपुर देहात जिलों के अलावा आसपास के इलाकों की सीमाओं को सील कर पुलिस द्वारा सघन तलाशी अभियान चलाया जा रहा है। विकास दुबे 40 घंट से भी ज्यादा बीत जाने के बाद भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। पुलिस महानिदेशक एचसी अवस्थी ने शनिवार को कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) और पुलिस की कई टिमों ने आठ पुलिस कर्मियों के हत्या का आरोपी व हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे और उसके गुर्गों की तलाश में कई जगहों पर छापेमारी की। शुक्रवार दोपहर में मुठभेड़ के बाद पुलिस ने उसके दो साथियों को मार दिया गया था। अपराधियों पर नकेल कसने के लिए लगभग 100 टीमों का गठन किया गया है। श्री अवस्थी ने कहा कि हिस्ट्रीशीटर बदमाश पर 50,000 रुपए का इनाम घोषित किया गया है। गिरफ्तार किए जाने पर सरकार उसके खिलाफ एनएसए लागू करेगी। उन्होंने कहा कि इतनी बड़ी संख्या में पुलिसकर्मियों की हत्या के पीछे के कारण का पता लगाने के लिए उच्च-स्तरीय जांच के आदेश दिए गए हैं। हालांकि, एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि बहुत जल्द दुबे को पकड़ा जाएगा क्योंकि पुलिस को उसके ठिकाने के बारे में कुछ महत्वपूर्ण जानकारी मिली है। इस बीच, ऐसी खबरें हैं कि बदमाश विकास दुबे किसी भी जिले में पुलिस को एक मुठभेड़ में जान से मारने की धमकी के मामले को लेकर अदालत में आत्मसमर्पण कर सकता है। हिस्ट्रीशीटर की मां सरला देवी, जो लखनऊ में रहती हैं, ने भी पुलिस से कहा है कि हत्याओं का बदला लेने के लिए उसके बेटे को मार दें। एक जांच चल रही है जिसमें यह पता लगाया जाएगा कि पुलिस में बदमाश का मुखबिर कौन था, जिसने छापे के बारे में अपराधी को इत्तला दी थी। चौबेपुर पुलिस स्टेशन के तीन पुलिसकर्मी, जिनमें एक सब इंस्पेक्टर, एक पुलिसकर्मी और एक होमगार्ड जवान शामिल हैं, जांच के राडार में हैं और उनके मोबाइल कॉल डिटेल की जांच की जा रही है।



Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

बेरूत विस्फोट के चलते लेबनान के प्रधानमंत्री समेत सरकार का इस्तीफा
बेरूत विस्फोट के चलते लेबनान के प्रधानमंत्री समेत सरकार का इस्तीफा

एक हफ्ते पहले लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए धमाकों ने पूरी दुनिया को हिलाकर रख दिया। इस घटना को लेकर देश में इस कदर आक

पूर्वानुमान की स्थाई प्रणाली के लिए बने केंद्रीय-राज्य एजेंसियों में बेहतर तालमेल
पूर्वानुमान की स्थाई प्रणाली के लिए बने केंद्रीय-राज्य एजेंसियों में बेहतर तालमेल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बाढ़ समीक्षा के लिए छह राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ की बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न