लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

देश

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन

पासवान ने किया शाह के हिंदी पर बयान का समर्थन

नयी दिल्ली 15 सितंबर (वार्ता)  16 Sep 2019      Email  

नयी दिल्ली 15 सितंबर  केंद्रीय गृह मंत्री एवं भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के एक भाषा वाले बयान का केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने पुरजोर समर्थन करते हुए कहा कि अंग्रेज हम भारतीयों पर अंग्रेजी थोपकर चले गये।

श्री पासवान ने रविवार को ट्वीट कर कहा,“लोक जनशक्ति पार्टी गृह मंत्री श्री अमित शाह जी के बयान का पुरजोर समर्थन करती है जिसमें उन्होंने कहा है कि.. ‘देश को एकता के सूत्र में बांधने का काम अगर कोई एक भाषा कर सकती है तो वो सर्वाधिक बोली जानेवाली भाषा हिन्दी है।”

उन्होंने कहा कि इस देश में अंग्रेज अंग्रेजी थोप कर चले गए। अंग्रेजी मात्र 90 साल पुरानी भाषा है। जबकि हमारी समृद्ध क्षेत्रीय भाषाएं सैकड़ों साल पुरानी है। आज भारत में अंग्रेजी महारानी बनी हुई है और देश की अन्य देसी भाषाएं नौकरानी जैसी बदहाल हैं। इसका मुख्य कारण है कि अंग्रेजी जानने वालों को बड़ी-बड़ी नौकरियां मिल रही हैं।

उन्होंने कहा कि यह शर्म की बात है कि सुप्रीम कोर्ट (उच्चतम न्यायालय) और कई हाई कोर्ट (उच्च न्यायालय) की अाधिकारिक भाषा अंग्रेजी है। सुप्रीम कोर्ट में हिंदी और अन्य भारतीय भाषाओं के उपयोग की अनुमति नहीं है। उन्होंने कहा भारत की अपनी एक भाषा होनी चाहिए। हिन्दी सर्वाधिक बोली जाने वाली और सबसे ज्यादा लोगों को समझ में आने वाली भाषा है। उन्होंने कहा कि नेताजी सुभाष चन्द्र बोस ने भी हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा घोषित करने की वकालत की थी। पूरी दुनिया में भारत को छोड़कर हर देश की अपनी भाषा है।

इसके अलावा श्री पासवान ने एक भाषा का विरोध करने पर विपक्षी दलों पर निशाना साधते हुए कहा कि दक्षिण भारत के राज्यों के कुछ नेता तथा पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का हिन्दी का विरोध करना अनावश्यक है। इन सभी को अंग्रेजी का विरोध करके अपनी-अपनी मातृभाषा का समर्थन करना चाहिए। अंग्रेजी विदेशों की भाषा है। जबकि हिंदी भारत की भाषा है।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

सोना 100 रुपये चढ़ा
सोना 100 रुपये चढ़ा

नयी दिल्ली, 21 अक्टूबर  विदेशों में कीमती धातुआें में रही तेजी के बीच घरेलू स्तर पर दिल्ली सर्राफा बाजार में सोमवार