लखनऊ से हिंदी एवं उर्दू में एकसाथ प्रकाशित राष्ट्रीय दैनिक समाचार पत्र
ताजा समाचार
नारी गरिमा और उसके सम्मान की रक्षा के लिए तीन तलाक बिल आवश्यक था
माेदी सरकार से जनता की अपेक्षायें बढ़ी: रामदेव
सुल्तानपुर में फ्लाईओवर का पिलर टेढा होने पर जांच के आदेश
मोदी की टिप्पणी ‘हताशा का चरम’: तृणमूल
बहराइच में पानी के लिये भटका बारहसिंघा, कुत्तों ने नोचा
मलेशिया में नजीब रजाक के घर के आसपास घेराबंदी
बस खाई में गिरी, आठ की मौत
मोदी ने कर्नाटक के लोगों से किया बड़ी संख्या में मतदान करने का आग्रह
अमेरिका ने ईरान पर लगाए नए प्रतिबंध
कांग्रेस कर्नाटक में वापसी को लेकर आशवस्त
इजरायली सैनिकों की गोलीबारी में 350 फिलीस्तीनी घायल
पृथ्वी शॉ की तकनीक सचिन जैसी: मार्क वॉ
अमेरिका की पूर्व पहली महिला बारबरा बुश का निधन
वंशवाद और जातिवाद ने किया यूपी का बंटाढार
मुठभेड़ में लश्कर का शीर्ष कमांडर वसीम शाह ढेर

राज्य

डेली न्यूज़ एक्टिविस्ट

मीडिया हाउस, 16/3 'घ',
सरोजिनी नायडू मार्ग, लखनऊ - 226001
फ़ोन : 91-522-2239969 / 2238436 / 40, फैक्स : 91-522-2239967/2239968
ईमेल : dailynewsactivist@yahoo.co.in, dailynewslko@gmail.com
वेबसाइट : http://www.dnahindi.com
ई-पेपर : http://www.dailynewsactivist.com

हरे झंडे का इस्लाम से कोई वास्ता नहीं : रिजवी

हरे झंडे का इस्लाम से कोई वास्ता नहीं : रिजवी

लखनऊ 13 अगस्त (वार्ता)  13 Aug 2019      Email  

लखनऊ 13 अगस्त  शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी ने चांद सितारे वाले हरे झंडे को गैर इस्लामिक बताते हुये इसे प्रतिबंधित करने की मांग की है।

श्री रिजवी ने मंगलवार को यूनीवार्ता से कहा “ इबादतगाहों पर लगे चांद सितारे वाले हरे झंडों को इस्लाम से कोई ताल्लुक नहीं है। वास्तव में यह झंडा हिन्दू मुस्लिम के विभाजन की जिम्मेदार मुस्लिम लीग का आधिकारिक प्रतीक है जिसे बाद मे मामूली संशोधन कर पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान ने अपना राष्ट्रीय ध्वज बना लिया। जागरूकता के अभाव में आम मुस्लिम इसे धार्मिक झंडा मानता है। ”

उन्होने कहा कि जो भी तत्व इस झंडे का प्रचार प्रसार कर रहे है, उन पर कार्रवाई किये जाने की जरूरत है। झंडे पर प्रतिबंध लगाने संबंधी एक याचिका उन्होने उच्चतम न्यायालय में दाखिल की है जिस पर जल्द सुनवाई होने की संभावना है। 

श्री रिजवी ने कहा कि कुरान में चांद सितारे पर प्रतिबंध है। धार्मिक ग्रंथ में कहा गया है कि यह सिर्फ एक निशानी है और इसको पूजने पर प्रतिबंध है। उन्होने कहा कि वर्ष 1906 में मुस्लिम लीग की स्थापना हुयी थी जिसने इस झंडे को अपना आधिकारिक झंडा बनाया था जबकि 1913 में आजादी की लड़ाई को कमजोर करने के लिये मोहम्मद अली जिन्ना मुस्लिम लीग के अध्यक्ष बने और यह झंडा अधिक प्रचलन में आ गया।


Comments

' data-width="100%">

अन्य खबरें

योगी ने किया शामली के कैराना में यमुना में डूबे 06 बच्चों की मृत्यु पर शोक व्यक्त
योगी ने किया शामली के कैराना में यमुना में डूबे 06 बच्चों की मृत्यु पर शोक व्यक्त

लखनऊ, 15 सितम्बर  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शामली के कैराना क्षेत्र में यमुना नदी में डूबने से